Home / राज्य / उत्तर प्रदेश / अव्यवस्थाओं ने ले ली मासूम की जान

अव्यवस्थाओं ने ले ली मासूम की जान

हरदोई 12 अक्टूबर। अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस पर प्रसासनिक लापरवाही के चलते एक छात्रा की मौत हो गयी। उसके परिजनों ने बताया कि दिन भर कड़ी धूप में खड़े रहने व पीने का पानी न मिलने से बच्ची की हालत बिगड़ गयी। जब उसे अस्पताल ले जाया गया तो कुछ ही देर में उसकी मौत हो गयी।


दरअसल 11 अक्टूबर को अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस के उपलक्ष्य में प्रशासन द्वारा आयोजित गिनीज बुक ऑफ वल्र्ड रिकॉर्ड में प्रतिभाग करने के लिए शहर के स्कूल, कालेजों की 11 हजार छात्राओं को बुलाया गया था। सुबह 09 बजे से सभी छात्राएं जीआईसी परिसर में एकत्र हो गयी थी।
लगातार एक ही स्थान पर 05 घण्टे से खड़ी छात्राओं को पानी तक नसीब नही हुआ। उनके बैठने के लिए भी कोई व्यवस्था नही की गई थी। कड़ी धूप से परेशान छात्राएं जब छांव को ओर बढ़ी तो उन्हें खदेड़ दिया गया। नतीजन तमाम छात्राओं की हालत बिगड़ने लगी।
इसी में शहर के पिहानी चुंगी स्थित आर्य कन्या पाठशाला की कक्षा 09 की छात्रा सुप्रिया शर्मा भी थी। सुप्रिया जब घर पहुंची तो उसकी हालत गंभीर हो चुकी थी। सुप्रिया को देखते ही परिजन घबड़ा गए। आनन-फानन में उसे जिला अस्पताल ले जाया गया। जहां कुछ समय बाद ही उसकी मौत हो गयी। इस घटना से परिजनों में कोहराम मच गया।
शहर के मोहल्ला आशानगर निवासी नरेश चंद्र शर्मा की दो बेटियों में सुप्रिया छोटी थी। 14 वर्षीय सुप्रिया विश्व मे हरदोई का नाम रोशन करने निकली थी, पर उसे क्या पता था कि वह अव्यवस्थाओं की भेंट चढ़ जाएगी।
जीआईसी के जिस परिसर में 11 हजार छात्राएं एकत्र थीं, वहां पीने के पानी का कोई इंतजाम नही किया गया था। यहां तक कि कड़ी धूप से बचने के लिए आयोजको ने टेंट तक नही लगवाया। प्रशासन के अलावा कुछ स्कूल प्रबंधन ने भी अपने स्कूल कालेज की छात्राओं की देखरेख नही की। जिसके चलते 05 घण्टे तक छात्राएं धूप व प्यास से बिलबिलाती रहीं।

About Durgesh Mishra

Check Also

नगर का ऐतिहासिक सहजन कुआं बना कूड़ादान

बिलग्राम 12 नवम्बर। आनन्द अवस्थी/शब्बीर। नगर की ऐतिहासिक धरोहरों में से एक सहजन कुआं अपनी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: