Home / राज्य / उत्तर प्रदेश / समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता जितेंद्र वर्मा जीतू ने हरदोई समाजवादी पार्टी कार्यालय पर पत्रकार वार्ता कर नरेश अग्रवाल द्वारा माननीय अखिलेश यादव के खिलाफ की गई बयानबाजी का करारा जवाब दिया ।

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता जितेंद्र वर्मा जीतू ने हरदोई समाजवादी पार्टी कार्यालय पर पत्रकार वार्ता कर नरेश अग्रवाल द्वारा माननीय अखिलेश यादव के खिलाफ की गई बयानबाजी का करारा जवाब दिया ।

हरदोई 08 मई। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता जितेंद्र वर्मा जीतू ने हरदोई समाजवादी पार्टी कार्यालय पर पत्रकार वार्ता कर नरेश अग्रवाल द्वारा माननीय अखिलेश यादव के खिलाफ की गई बयानबाजी का करारा जवाब दिया । राष्ट्रीय प्रवक्ता  जीतू वर्मा ने कहा कि  अखिलेश यादव  के समाने नरेश अग्रवाल की हैसियत उस चपरासी की तरह है जिसमे 59 साल का चपरासी 30 साल की उम्र के डी एम से साहब कहने की उम्मीद रखता हो इसलिए नरेश को अपने छोटे कद के हिसाब से अमर्यादित बयान देने से बचना चाहिए।समाजवादी पार्टी के डाले हुए टुकड़ों के दम पर राजनीति में यहाँ तक पहुंचने वाले नरेश अग्रवाल का कद व हैसियत इतनी बडी नही है कि वो समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष  अखिलेश यादव  के खिलाफ अमर्यादित शब्दों का उपयोग करें। समाजवादी पार्टी नरेश अग्रवाल के द्वारा  अखिलेश यादव  के खिलाफ अपमानजनक भाषा की कड़ी निंदा करती हैं साथ ही समाजवादी पार्टी उन्हें चेतावनी भी देती हैं कि बीजेपी नेता नरेश अग्रवाल अपनी भाषा पर काबू रखें अन्यथा समाजवादी पार्टी उनके खिलाफ मोर्चा खोलेगी,सपा कार्यकर्ताओं की शालीनता व सहनशीलता की परीक्षा न ले ,अगर हमने अपनी सीमा तोड़ी तो कार्यकर्ता नरेश का पुतला फूंकने के साथ उनकी अर्थी निकाल देँगे और उनके आवास पर उनका घेराव कर प्रदर्शन करेंगे इसलिए उन्हें अपनी भाषा पर लगाम रखनी चाहिए। नरेश अग्रवाल को शायद याद नही है कि जब पूर्व मुख्यमंत्री राजनाथ सिंह ने मुख्यमंत्री रहते हुए इन्हें मंत्रिमंडल से बर्खास्त किया था तब इन्होंने दिल्ली में  नेता जी के पैर पकड़ कर अपनी राजनीतिक हत्या होने का हवाला देकर मदत की भीख मांगी थी तब नेता जी इनकी मदद करके इनकी राजनीतिक हत्या होने से बचाया था, इसके अलावा दूबारा 2012 में जब बसपा सुप्रीमो ने इनके बेटे का टिकट काटकर इन्हें पार्टी से निकाला था तब भी  नेता जी के इन्होंने पैर पकड़ लिए थे तब नेता जी ने वर्तमान प्रत्याशी सुखसागर मिश्रा मधुर का टिकट काटकर इनकी मदद करके दुबारा इनकी राजनीतिक हत्या होने से बचाया था इसलिए नरेश अग्रवाल को अपना इतिहास नही भूलना चाहिए कि वो राजनीति में सदैव समाजवादी पार्टी के टुकड़ों पर पले व बढ़े हैं उनकी अपनी राजनीतिक हैसियत समाप्ति की ओर है नरेश अग्रवाल की राजनीतिक हत्या होने से बचाने के बाद भी इन्होंने समाजवादी पार्टी को धोखा दिया माननीय नेता जी की पीठ में छुरा भोंकने का काम किया जो व्यक्ति 2 बार अपने बेटे भगवान बाबा मंदिर की कसम खाकर 3 पीढ़ी तक सपा में रहकर ईमानदारी से कार्य करने का वादा किया हो और स्वार्थ के चलते व अपनी काली कमाई बचाने के चलते सत्ताधारी पार्टी में चला जाए उसे माननीय अखिलेश जी के खिलाफ बोलने का हक नही हैबीजेपी को नरेश अग्रवाल द्वारा माननीय अखिलेश जी पर की गई अमर्यादित टिप्पणी पर अपना रुख स्पस्ट करना चाहिए कि क्या वो दलबदलू नेता नरेश अग्रवाल के बयान के साथ है या इस बयान की निंदा करती हैं सपा में बड़ा स्थान पाने वाले नरेश की बीजेपी में स्थित बीजेपी विधायक श्याम प्रकाश के जूनियर के तौर पर हैयोगी मोदी को बैलों की जोड़ी बताने वाला मोदी जी को चाय वाला बताने वाला भगवान राम को अपमानित करने वाला आज बीजेपी में ही सम्मानित किया जा रहा है। वह समझते हैं कि उनके जाने से सपा नुकसान में आ गई है तो यह उनकी गलतफहमी है, उनके जाने से पार्टी कार्यकर्ता दुगुने उत्साह में हैं और 2019 के लोकसभा चुनाव में दमखम दिखाने को तैयार हैं। रास्ट्रीय प्रवक्ता सपा जीतू वर्मा ने  चुनौती दी, नरेश अग्रवाल इतने लोकप्रिय नेता हैं तो बीजेपी में जा चुके अपने बेटे नितिन अग्रवाल को विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफ़ा दिलवा उप चुनाव लड़वा लें, सपा-बसपा गठबन्धन के सामने उन्हें अपने पैरों के नीचे की ज़मीन का अहसास हो जाएगा।

सवाल हुआ, सपा ने दल-बदल कानून के तहत नितिन अग्रवाल को अयोग्य करार दिए जाने सम्बन्धी चिट्ठी विधानसभा अध्यक्ष को क्यों नहीं दी ? सपा प्रवक्ता ने कहा, विधानसभा के आगामी सत्र के दौरान यह प्रक्रिया पूरी की जाएगी।

सवाल हुआ, 2019 लोकसभा चुनाव की तैयारी में अन्य राजनीतिक संगठन ज़मीन पर दिख रहे हैं, जबकि जिले में महीने भर से ज़्यादा वक़्त से भंग जिला व फ्रंटल संगठनों का अभी तक पुनर्गठन तक नहीं हो पाया है। जीतू वर्मा  ने कहा, कैराना और नूरपुर उप चुनाव के बाद जिला और फ्रंटल संगठनों का पुनर्गठन हो जाएगा। इस दौरान प्रदेश सचिव संजय कश्यप , छात्रसभा निवर्तमान जिलाध्यक्ष रहमत अली ‘मोनू’, छात्रसंघ पूर्व अध्यक्ष अमित सिंह ‘मीतू’, अलंकार सिंह, अतुल उपाध्याय, प्रशान्त मिश्रा, अजय पाण्डेय, महावीर यादव, सईद खां आदि मौजूद रहे।

About Durgesh Mishra

Check Also

नगर का ऐतिहासिक सहजन कुआं बना कूड़ादान

बिलग्राम 12 नवम्बर। आनन्द अवस्थी/शब्बीर। नगर की ऐतिहासिक धरोहरों में से एक सहजन कुआं अपनी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: