Home / राज्य / उत्तर प्रदेश / कर्ज में डूबे किसान ने की आत्महत्या

कर्ज में डूबे किसान ने की आत्महत्या

पिहानी/हरदोई 29 जून।विपुलमिश्रा। कर्ज में डूबे किसान श्यामलाल पुत्र छोटकाई ने किसान क्रेडिट कार्ड का कर्ज न चुका पाने के कारण आत्महत्या कर ली गांव वालों का आरोप बैंक मैनेजर ने कर्ज अदा करने का दवाब बनाया और बैंक से यह कहते हुए भगा दिया कि कर्ज तो अदा करना ही पड़ेगा चाहे इसके लिए कुछ भी करो।
क्षेत्र के गांव सिमौर के मजरा अखरीपूरवा का एक गरीब किसान श्यामलाल 58 वर्ष पुत्र छोटकाई जिसने खेती करने के लिए किसान क्रेडिट कार्ड से 45000 रुपये का कर्ज लिया था जिसे वह जमा नही सका था। जिसको लेकर वह परेशान रहता था सरकार ने जब कर्ज माफ किया तो भी उसका कर्ज माफ नही हुआ। तब से वह कुछ ज्यादा ही परेशान रहने लगा और बैंक में जाकर पता लगाने लगा कि मेरा कर्ज माफ क्यों नही हुआ इसीलिए वह गुरुवार को भी बैंक गया था और वंहा से वापस आने पर कुछ ज्यादा ही परेशान था घर मे पूछने पर बताया कि मैनेजर ने हमे धक्का देकर भगा दिया और कहा कि जल्दी से यह कर्ज माफ करो यह तो तुम्हे करना ही पड़ेगा इसके लिए तुम चाहे कुछ भी करो। फिर उसके बाद शुक्रवार की सुबह करीब 4 बजे वह घर से निकला और फिर काफी देर हो जाने पर भी जब वापस घर नही आया तो परिजनों ने उन्हें ढूढ़ना प्रारम्भ किया। जिस पर काफी देर के बाद गांव से बाहर एक खेत मे बबूल के पेड़ पर गमछे से लटकता उनका शव दिखाई दिया जिस पर वंहा हड़कंप मच गया और लोगों की भीड़ जमा होने लगी। गांव वालों का कहना है कि सारी कृषि योग्य जमीन बंजर होती जा रही है न तो यंहा पानी की ही व्यवस्था है वंही दूसरी ओर जानवर भी परेशान करते है। पहले गांव में नाले द्वारा पानी आ भी जाया करता था लेकिन करीब 20 वर्ष से यह नाला भी पूरी तरह से बंद पड़ा है।
इस अभद्र ब्यवहार के बारे में जब मैनेजर से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि ऐसा कुछ भी नही है हां यह व्यक्ति कल आया तो जरूर था लेकिन इस तरह की कोई बात नही हुई अगर ऐसा है तो जो सीसीटीवी कैमरा लगे है उनमें देख सकते है। उन्होंने बताया कि जो किसान बैंक में आते है उनसे यह कहा जाता है की आनलाइन शिकायत दर्ज करवा आओ फिर यंहा आओ अगर तुम कर्जमाफी के पात्र हो तो तुम्हारा जरूर माफ होगा इसमे कोई कुछ भी नही कर सकता।

About Durgesh Mishra

Check Also

नगर का ऐतिहासिक सहजन कुआं बना कूड़ादान

बिलग्राम 12 नवम्बर। आनन्द अवस्थी/शब्बीर। नगर की ऐतिहासिक धरोहरों में से एक सहजन कुआं अपनी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: